मुद्रा, बचत एवं साख का इतिहास का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Mudra Bachat avn Sakh ka Ithaas Subjective Question Answer )

मुद्रा, बचत एवं साख का इतिहास का सब्जेक्टिव

दोस्तों मैट्रिक परीक्षा 2023 का तैयारी करना चाहते है तो यहाँ पर (Social Science) सामाजिक विज्ञान का क्वेश्चन आंसर दिया गया है जिसमें अर्थशास्त्र (Economics) का मुद्रा, बचत एवं साख का इतिहास का सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Mudra Bachat avn Sakh ka Ithaas Subjective Question Answer ) दिया गया है तथा सामाजिक विज्ञान का मॉडल पेपर ( Social Science Model Paper 2023 ) भी दिया गया है और आपको सोशल साइंस का ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर मुद्रा, बचत एवं साख ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Mudra Bachat avn Sakh ka Ithaas Objective Question Answer ) आपको इस वेबसाइट पर आसानी से मिल जाएगा।
. मुद्रा बचत एवं साख
जो मुद्रा, पीतल और तांबा इत्यादि धातु से बने होते हैं उसे धात्विक मुद्रा कहते हैं |
प्राचीन काल के सिक्के अधिकांशतः सोने और चांदी के बने होते थे।
⇒1 का नोट और सभी प्रकार के सिक्के केंद्र सरकार के द्वारा जारी किए जाते हैं।
⇒1 रुपये से बड़े सभी नोट RBI जारी करता है ।
⇒ATM मशीन जारी करने वाला पहला बैंक SBI था |
आधुनिक विश्व में उद्योग मुद्रा रूपी वस्त्र धारण किए हुए हैं।
प्रो० मार्शल के अनुसार- मुद्रा वह धुरी है जिसके चारो तरफ सम्पूर्ण आर्थिक विज्ञान चक्कर काटता है..
आधुनिक युग की प्रगति का श्रेय मुद्रा को है यह कथन मार्शल ने कहा था
ट्रेस्कॉट के अनुसार यदि मुद्रा हमारी अर्थव्यवस्था का हृदय नहीं तो रक्त प्रभाव अवश्य है।
⇒४ मुद्रा को आधुनिक अर्थव्यवस्था की रीढ़ मानी जाती है।
विनिमय दो प्रकार के होते हैं।
(i) वस्तु विनिमय
(ii) मौद्रिक विनिमय
⇒४ क्राउथर के अनुसार मुद्रा का आविष्कार मनुष्य की सबसे बड़ी उपलब्धि है |
⇒४ वास्तव में मुद्रा के विकास का ऐतिहासिक एक तरह से मानवता सभ्यता के विकास का ही इतिहास है।
रुपया. Bharat
रुपया. Pakistan
टका. Bangladesh
⇒रुपया. Nepal
डॉलर. America
पाउड. England
स्बल. Rusi
रियाल. Iran
 मुद्रा के चार कार्य निम्रलिखित हैं
(i) माध्यम
(ii) मापन
(iii) संचधन
(iv) भुगतान
प्रो० हार्टले विग ने बताया कि मुद्रा वह है जो का कार्य करती
नैप के अनुसार कोई भी वस्तु जो राज्य के द्वारा घोषित की जाती है मुद्रा कहलाती है।
⇒सैलिव मैन के अनुसार मुद्रा वह वस्तु है जिसे सामान्य स्वीकृति कृति प्राप्त हो ।
⇒ATM सह डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड को प्लास्टिक कार्ड कहा जाता है।
⇒आय तथा उपभोग का अंतर बचत कहलाता है।
जीड के अनुसार साख एक ऐसा विनिमय कार्य है जो निश्चित अवधि के बाद भुगतान करने के बाद पूरा हो जाता है
: साख के दो पक्ष होते हैं
(i) ऋणदाता
(ii) ऋणी

लघु उत्तरीय प्रश्न 

Q.1. वस्तु विनिमय क्या है ?
उत्तर- किसी एक वस्तु का किसी वस्तु के साथ बिना मुद्रा के प्रत्यक्ष रूप से लेन देन वस्तु विनिमय प्रणाली कहलाता में विनिमय का सारा कार्य मुद्रा मुद्रा की सहायता से होता है।


Q.2.मौद्रिक प्रणाली क्या है 
उत्तर – मौद्रिक प्रणाली प्रणाली में कोई व्यक्ति वस्तु या सेवा बेचकर मुद्रा प्राप्त करता है और फिर उस मुद्रा
से अपनी जरूरत की वस्तुएं प्राप्त करता है।


Q.3. मुद्रा की परिभाषा दें ।
उत्तर विभिन्न अर्थशास्त्रियों ने मुद्रा की अलग-अलग परिभाषा दी है प्रो० हार्टले विस अनुसार मुद्रा वह है जो मुद्रा का कार्य करती है | प्रो० मार्शल के अनुसार मुद्रा वह अधूरी है जिसके चारों ओर संपूर्ण आर्थिक विज्ञान चक्कर काटता है |


प्रश्न-4. ATM क्या है?
उत्तर- ATM-Automatic Teller Machin (स्वचालित टेलर मशीन)
ATM, 24 घंटा रुपया निकलने तथा रुपया जमा करने का सेवा प्रदान कराता है । भारत में सभी व्यवसायिक बैंकों जैसे- स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, ICICI बैंक आदि द्वारा यह सुविधा अपने ग्राहकों को उपलब्ध करायी जाती है  


प्रश्न-5. Credit Card(क्रेडिट कार्ड) क्या है?
उत्तर- Credit Card प्लास्टिक मुद्रा का एक रूप है । जिसके माध्यम से निर्धारित धनराशि के अंदर वस्तुओं और सेवाओं को खरीदी जा सकती है । बैंकों या वित्तीय संस्थानों द्वारा क्रेडिट कार्ड(Credit Card) को अपने ग्राहकों को दी जाती है ।विश्व में प्रचलित कुछ क्रेडिट कार्ड्स हैं- VISA, 3/4 मास्टर कार्ड और अमेरिकन एक्सप्रेस आदि प्रसिद्ध है


प्रश्न-6. बचत क्या है?
उत्तर- बचत- आय तथा उपभोग का अंतर बचत कहलाता है । अर्थात
बचत= आय- उपभोग क्रेउथर के अनुसार- किसी व्यक्ति की बचत उसकी आय का वह भाग है जो उपभोग की वस्तुओं पर वय नही की जा सकती है 


Q.7.साख क्या है ?
उत्तर साख का अर्थ विश्वास तथा भरोसा होता है ।जिस व्यक्ति पर जितना या भरोसा किया होता है उसका साख उसकी उतनी ही अधिक होती है। अर्थशास्त्र में साख का मतलब ऋण लौटने तथा भुगतान करने की क्षमता में विश्वास है 


दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 

प्रश्न-1. वस्तु विनिमय प्रणाली की कठिनाइयों पर प्रकाश डालें ।
उत्तर- वस्तु विनिमय प्रणाली की कठिनाइयाँ निम्नलिखित है ।
(i) आवश्यकता के दोहरे संयोग का अभाव:- इसका
अर्थ यह है कि एक वे किसी की आवश्यकता दूसरे व्यक्ति की आवश्यकता से मेल खा जाए लेकिन ऐसा
संयोग का हमेशा अभाव रहता है ।
(ii) मूल्य के सामान्य मापक का अभाव इस प्रणाली
(iii) मूल्य के सामान्य मापक का अभाव:- इस प्रणाली में इस बात का हमेशा अभाव रहता है कि सभी प्रकार की वस्तुओं एवं सेवाओं के मूल्य को ठीक प्रकार से मापा जा सके ।
(iv) मूल्य संचय का अभाव:-फल, सब्जी आदि जैसे जल्दी नष्ट होने वाले  वस्तुओं का मल्य CC संचर्य नहीं हो पाता है ।,सह पेड़-विभाजन आदि का अभाव:- कुछ वस्तुएँ जैसे- गाय, का विभाजन करने पर इसका उपयोगिता रुझाड हो जाएगा । 
(v) भविष्य के भुगतान की कठिनाई:-इस प्रणाली में उधार देने या लेने में कठिनाई होती है ।
(vi) मूल्य हस्तांतरण की समस्या:- वस्तु विनिमय प्रणाली में मूल्य के हस्तांतरण में कठिनाई होती है । कठिनाई उस समय और अधिक बढ़ जाती है जब एक 2/4 स्थान से दूसरे स्थान पर बसने से सम्पति को बेचना बहुत कठिन होता है ।


प्रश्न-2. मुद्रा के कार्यों पर प्रकाश डालें?
उत्तर- मुद्रा के कुछ प्रमुख कार्य निम्नलिखित है ।
(i) विनिमय का माध्यम- किसी वस्तु को बेचने या
खरीदने में मुद्रा माध्यम का कार्य करता है ।
(ii) मूल्य का मापक- किसी वस्तु के मूल्य को मुद्रा से
शपते है । किस वस्तु का मूल्य कितना होना चाहिए,मुद्रा द्वारा यह पता लगाना आसान हो गया है । कियाएँ
(iii) विलंबित भुगतान का मान- बहुत से आर्थिक उधार पर होती है । जिसका भुगतान विलंब से मुद्रा के माध्येश से किया जाता है । 
(iv) मूल्य का संचय- किसी वस्तु या सेवा को बेचकर
प्राप्त मुद्रा का संचय लंबी अवधि तक किया जा सकता
है ।
(v)क्रय शक्ति का हस्तांतरण- मुद्रा द्वारा क्रय शक्ति का
हस्तांतरण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति या एक स्थान से
दूसरे स्थान तक किया जा सकता है ।
(vi) साख बिना का मुद्रा आधार के -साख मुद्रा साख का आधार है पत्र जैसे- चेक, ड्राफ्ट, हुंडी आदि प्रचलन में नहीं रह सकते ।


प्रश्न-3. मुद्रा के आर्थिक महत्व पर प्रकाश डालें ।
उत्तर- आधुनिक युग में मुद्रा का महत्वपूर्ण स्थान है यदि आज मुद्रा को वर्तमान अर्थव्यवस्था से हटा दिया जाए तो हमारी सभी आर्थिक क्रियाएँ रुक जाएगी या काफी धीमी हो जाएगी । यदि मुद्रा का अविष्कार ना हुआ होता, तो आज विश्व के विभिन्न देशों में इतना आर्थिक प्रगति भी नहीं देखने को मिलता ।पूँजीवादी, समाजवादी या मिश्रित अर्थव्यवस्था
आर्थिक ना हो सभी प्रकार के अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रा विकास को तेज कर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । इस आधुनिक युग में जीवन का प्रत्येक भी मुद्रा के द्वारा प्रभावित होता है । मुद्रा निम्नलिखित क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देता है 
(i) उपभोक्ता के क्षेत्र में,
(ii) उत्पादन के क्षेत्र में,
(iii) विनिमय के क्षेत्र में,
(iv) वितरण के क्षेत्र में,
(v) राजस्व के क्षेत्र में


प्रश्न-4. मुद्रा के विकास पर प्रकाश डालें ।
उत्तर:- वस्तु-विनिमय प्रणाली की कठिनाइयाँ ने मुद्रा वस्तुओं को जन्म का दिया प्रयोग । प्राचीन किया काल जाता से था मुद्रा । मुद्रा के के रूप विकास में अनेक के इतिहास को निम्नलिखित रूप में दर्शाया जा सकता है 
(i) वस्तु-विनिमय थी:।-इस समय एक वस्तु के बदले दूसरा
वस्तु दी जाती
(ii) वस्तु-मुद्रा:- वस्तुओं जैसे- जानवरों का खाल, गाय,
बकरी आदि को मुद्रा के रूप में प्रयोग ।
(iii)धात्विक मुद्रा:-इसके अंतर्गत पीपल, ताँबा आदि
के सिक्कों का प्रचलन हुआ ।
(iv) सिक्का:- धातुओं से निर्मित मुद्राएँ,जो देश की
सरकार द्वारा कानूनी मान्यता प्राप्त है ।
(v) कागजी मुद्रा:- कागज से बना मुद्राएँ, जो देश की
सरकार द्वारा कानूनी मान्यता प्राप्त होता है ।
(vi) प्लास्टिक मुद्रा:- ये आधुनिक मुद्रा के रूप में
सामने आया है जैसे-ATM कार्ड, डेबिट कार्ड, क्रेडिट
कार्ड, आदि ।


प्रश्न- 5.साख-पत्र क्या है?कुछ प्रमुख साख पत्रों पर
प्रकाश डालें ।
उत्तर- जिसका उपयोग साख मुद्रा के रूप में किया जाता है, साख पत्र कहलाता है । साख-पत्र ठीक मुद्रा के तरह कार्य करता है लेकिन मुद्रा को सरकार द्वारा कानूनी मान्यता(मुहर)प्राप्त है जबकि साख-पत्र को सरकार द्वारा की  आन्यता प्राप्त नहीं हो है बैंक वित्तीय संस्थानों आदि द्वारा साख-पत्र दी जाती है । कुछ प्रमुख साख-पत्र है
(i) चेक- चेक में लिखित रकम उसमें लिखित व्यक्ति
को दे दी जाती है । यह सबसे अधिक प्रचलित साख एत्र है ।
(ii) बैंक ड्राफ्ट:- बैंक ड्राफ्ट वे पत्र है जो एक बैंक
अपनी किसी अन्य शाखा या अन्य किसी बैंक को
आदेश देता है कि उस पत्र में लिखा हुआ रकम उसमें
अंक्ति व्यक्ति को दे दी जाए ।
(iii) प्रतिज्ञा पत्र:-इस पत्र में ऋणी की माँग पर एक
निश्चित अवधि के बाद उसमें अंकित रकम ब्याज
सहित देने का वादा करता है 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!