Avenue Subjective Question Answer || Class 10th Hindi

Avenue Subjective Question

 : दोस्तों यहां पर आपको मैट्रिक परीक्षा 2023 के लिए हिंदी गोधूलि भाग 2 का आवियों पाठ का महत्वपूर्ण ऑब्जेक्टिव प्रश्न दिया हुआ है जो क्लास 10th बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है Aavinyo Subjective

आप को साहित्य अकादमी पुरस्कार से 2004 में नवाजा गया था ।
 लेखक 10 वर्ष पहले आविन्यों गए थे ।
आविन्यों दक्षिण फ्रांस में रोन नदी के किनारे स्थित है ।
 आविन्यों कभी पोप की राजधानी हुआ करती थी ।
आविन्यों का पूरा नाम- वीलनव्व ला आविन्यों ।
 आविन्यों में एक ईसाई मठ ला शत्रुज था।
 रोन नदी के किनारे बसे दो शहर आविन्यों और वीलनव्व था।
 लेखक आविन्यों में 19 दिन रह कर 35 कविताएं लिखी थी ।
 लेखक अपने साथ टाइपराइटर, 34 पुस्तकें और कुछ संगीत टेप गए थे।
 आविन्यों फ्रांस का एक प्रमुख केंद्र था।
 नदी किनारे लेखक को विनोद कुमार शुक्ल की कविता “नदी चेहरे लोगों की याद आती है।
 लेखक अपने आपको नदी के साथ बहता हुआ महसूस करते हैं ।
 लेखक नदी की समानता कविता से करते हैं ।


1) आविन्यों क्या है और वह कहां अवस्थित है?
उत्तर – आविन्यों दक्षिण फ्रांस में रोन नदी के किनारे बसा एक पुराना शहर है।


2) हर वर्ष आविन्यों में कब और कैसा समारोह हुआ करता है ?
उत्तर – हर वर्ष आविन्यों गर्मियों के समय में एक अत्यंत प्रसिद्ध और लोकप्रिय रंग समारोह हुआ करता है ।


3) ला शत्रुज क्या है और वह कहां अवस्थित है आजकल उसका क्या उपयोग होता है ?
उत्तर -ला शत्रुज आविन्यों शहर में ईसाई धर्म का मठ हुआ करता था परंतु अब उसे कला केंद्र बना दिया गया है।


4) नदी के तट पर बैठे हुए लेखक को क्या अनुभव होता है ?
उत्तर- नदी के तट पर बैठे हुए लेखक का यह अनुभव होता है वह नदी के जल के साथ बह रहा है ।


5) नदी और कविता में लेखक क्या समानता पाते हैं ?
उत्तर- नदी और कविता में सामानता बताते हुए लेखक कहते हैं कि जिस तरह कई जगहों से जल आकर नदी में मिल जाते हैं ठीक उसी तरह कई जगह से शब्द आकर कविता में मिल जाते हैं। जिस तरह नदी का कोई अंत नहीं उसी तरह कविता का भी कोई अंत नहीं | जिस तरह नदी में लोग बह जाते हैं उसी तरह कविता को पढ़कर भी लोग उसी में खो जाते हैं ।


6) नदी तट पर लेखक को किसकी याद आती है और क्यों ?
उत्तर -नदी तट पर लेखक को विनोद कुमार शुक्ल की एक कविता नदी चेहरे लोगों की याद आती है क्योंकि उस कविता में लेखक ने नदी के बारे में बहुत अच्छा भाव लिखा था


 

Leave a Comment

error: Content is protected !!